29 वा सड़क सुरक्षा सप्ताह हुआ सम्पन्न।

29वा सड़क सुरक्षा सप्ताह सफलता पूर्वक सम्पन्न हुआ। देश भर में 23 से 30 अप्रैल तक “सड़क सुरक्षा जीवन रक्षा” के नारे के साथ इसका आगाज़ किया गया था। भारत में हर साल सड़क दुर्घटनाओं में लगभग 1.4 लाख से भी अधिक लोग मारे जाते है, जबकि कई घायल होते है। वही 15 से 24 वर्ष के आयु वर्ग के युवा कुल मौत का 33% है। अर्थात लगभग 400 लोगो की प्रतिदिन सड़क दुर्घटना में मृत्यु एक चिंता का विषय है जिसकी रोकथाम के लिए समय समय पर भारत सरकार द्वारा जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से सड़क सुरक्षा सप्ताह अभियान का आगाज किया जाता है।

2004-2015 तक सड़क दुर्घटना के आंकड़े

 

चलाये गए कई जागरूकता अभियान,ऑटोमोबाइल्स निर्माताओं ने भी लिया भाग। 

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने 23 अप्रैल 2018 से सड़क सुरक्षा सप्ताह मनाया है, पूरे देश में सड़क पर सुरक्षा में सुधार व आम जनता के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए अनेक कदम उठाये गए। सप्ताह के दौरान सड़क दुर्घटनाओं के विभिन्न कारणों के बारे में जागरूकता और उन्हें रोकने के उपायों को विभिन्न गतिविधियों द्वारा हाइलाइट किया गया। इसमें ट्रैफिक लाइट्स, स्पीड सीमा, पैदल यात्री क्रॉसिंग नियमों और वाहन चलाते समय सीट बेल्ट  व हेलमेट पहनने आदि बातों पर महत्व देने के साथ साथ ड्राइवर्स के लिए एजुकेशन प्रोग्राम, ट्रैनिग वर्कशॉप व स्कूलों के बच्चों में सड़क सुरक्षा जागरूकता के लिए कई गतिविधिया की गयी। साथ ही इन गतिविधियों में सुरक्षा बैनर, सड़क संकेत, सड़क सुरक्षा से संबंधित पुस्तिकाओं का वितरण व कही स्थानों पर टोल प्लाजा पर चालकों के लिए निशुल्क कैंप भी चलाये गए। 
राज्यों के विभिन्न विभागों जैसे यातायात पुलिस, वाहन निर्माताओं, ट्रांसपोर्टर एसोसिएशन, पीएसयू, और कॉर्पोरेट
सड़क सुरक्षा सप्ताह के दौरान गतिविधियों में भाग लिया है। वाहन निर्माता ने भी अपने डीलरशिप पर सड़क सुरक्षा से सम्बंदित फिल्म अपने ग्राहक लाउन्ज में चलायी व साथ ही फ्री-वाहन जाँच शिविर भी आयोजित किये।

देश भर में दिखा सड़क सुरक्षा का रंग, कही बांटे हेलमेट तो कही कांटे चालान।

सड़क सुरक्षा सप्ताह के मौके पर देश में जगह जगह जागरूकता अभियान चलाया गया। वाराणसी में जहा शिक्षिकाओं ने स्कूटी पर रैली निकली, वही उतारबंगाल के जलपाईगुड़ी  मैराथॉन का आगाज किया गया।  वही कही हेलमेट बनते गए तो राजस्थान के जयपुर में काटे गए चालान।

क्यों जरुरी है सड़क सुरक्षा सप्ताह ? 

  • समुदाय में सड़क सुरक्षा उपायों को बढ़ावा देने के लिएऔर चोट के मामलों की संख्या कम करने के लिए सड़क सुरक्षा उपायों को बताना। 
  • सभी यात्रियों को यातायात नियमों का पालन करने और हेल्मेट पहनने के लिए प्रोत्साहित करना और ड्राइविंग करते समय सीट बेल्ट पहनें के लिए जागरूक करना।  
  • लोगों को वाहनों की गति सीमा के बारे में जागरूक करने के लिए। 
  • सड़क दुर्घटना की चपेट में आये लोगो की सहायता करने के लिए प्रोत्साहित करना। 
  • शोर प्रदूषण और वायु प्रदूषण को न्यूनतम स्तर तक करने के लिए। 
  • सड़क पर यातायात का अनुशासन व लेन ड्राइविंग के लिए प्रोत्साहन के लिए। 

 

एक रिपोर्ट के अनुसार 2017 में 2016 की अपेक्षा 3% की कमी देखने को मिली है। आंकड़ा भले ही छोटा है परन्तु सकारात्मक रूप से यह कदम हम सब की सुरक्षा की ओर अग्रसर है।

Gaadify की सम्पूर्ण टीम आपसे अनुरोध करती है की आप भी वाहन चलते समय सड़क सुरक्षा निमयों का पालन अवश्य करे।

Leave a Reply