सरकार ने बढ़ाई गाड़ियों की गति सीमा। जानिये नयी Speed Limits

मोटर यान अधिनियम 1988 की धारा 112 की उपधारा 1 के तहत शक्तियों का प्रयोग करते हुए सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय ने एक्सप्रेसवे गति सीमाओं को विभिन्न वाहन वर्गों के लिए गति सीमाओं को बढ़ाया है – {S.O.1522 (E)}

इससे पूर्व गति सीमाओं में बदलाव अगस्त 2014 में किया गया था, जिसमे अधिकतम गति सीमा 100 किमी प्रति घंटा की गयी थी । 2014 के बाद पुनः 2018 में वाहन गति सीमाओं में बदलाव कर 100 किमी प्रति घंटे को 120 किमी प्रति घंटा तक बढ़ाया गया है। 

हाईवे के नयी Speed limits (गति सीमा)

इस संशोधन के अंतर्ग़त सभी पैसेन्जर्स कारो (M1 वर्ग) की गति सीमा 120 किमी/घंटा (एक्सप्रेसवे पर) व 100 किमी/घंटा (अन्य राजमार्गों पर) तय की गयी है, जो की पहले क्रमशः 100 किमी/घंटा व 80 किमी/घंटा थी।

वही सभी पैसेंजर-कमर्शियल वाहन (M2,M3 वर्ग) जैसे बस, टेम्पो, टैक्सी, कैब्स(cabs) जिनका उपयोग चालक सीट के अतिरिक्त 9 या अधिक यात्रियों के लिए होता है 100 किमी/घंटा (एक्सप्रेसवे पर) व 90 किमी/घंटा (अन्य राजमार्गों पर) की गति दायरे में आते है।

माल ढ़ोने वाले वाहनों(Goods Carriage Vehicles :- N वर्ग) तथा मोटर साइकिल्स की गति सीमा 80 किमी/घंटा तय की गयी है।

Speed limits Indian Roads

वही शहरी/कस्बों क्षेत्रों में छोटे पैसेंजर्स वाहनों की गति सीमा 70 व बड़े पैसेंजर्स वाहनों तथा सामान ढ़ोने वाली वाहनों की सीमा 60 किमी/घंटा निश्चित की गयी है। परन्तु साथ ही local authorities अपने क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले स्कूलों, होस्पिटल्स व धार्मिक स्थानों जैसे क्षेत्रों में गति सीमाओं में बदलाव कर सकने के लिए उतरदायी भी है। 

सड़क परिवहन व राजमार्ग मंत्रालय ने ये भी साफ़ किया है की मोटर यान अधिनियम-1988 की धारा 183 के तहत अगर कोई वाहन निश्चित गति सीमा का उल्लंघन, गति सीमा के 5 % के अंतर्गत करता है तो चालक से गति अतिक्रमण का कोई भुगतान नहीं लिया जाएगा।

2 COMMENTS

  1. सर अभी जीन गाड़ियों में speed governor लगे है उसे हम update करवा सकते हैं क्या?

    • Do you have any commercial vehicle?
      Anyway, there are some ways by which it can be update/reset again. But it is not legal to set your speed limit beyond the govt approved criteria if u have a commercial vehicle.

Leave a Reply